ट्रैन में चुदी मेरे दोस्त की पत्नी पहले चूत चोदा फिर गांड मारा

ट्रैन सेक्स स्टोरी, ट्रैन में चुदाई, वेटिंग टिकट चुदाई, ट्रैन के सफर में सेक्स, सेक्स का सफर, रेलगाड़ी में चुदाई, राजधानी में चुदाई, Train Sex Story, Train me Chudai, Waiting Ticket Sex, Rajdhani Train Sex, Mumbai Rajdhani Sex, Sex kahani, Hindi Chudai ki kahani


आज मैं आपको अपनी एक हॉट और सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हु, या कहानी मेरे दोस्त की बीवी सलीम खान की बीवी रुकसाना की है, ये सच्ची कहानी है, पूरी रात चोदा मैं ट्रैन में रुकसाना को, रुकसाना  बहुत ही हॉट और सेक्सी औरत है जिसकी मैनें चुदाई की है। गजब का रूप है आँखे हिरणी जैसी गांड मोटी चूतड़ बाहर के तरफ निकला हुआ, चूचियां गोल गोल बड़ी बड़ी, गोरी कजरारे आँख पिंक होठ किसी को भी घायल कर दे अपने नैनो से।  और कोई भी मूठ मार ले जब वो किसी के आगे से निकल जाये।

ये कहानी आज से मात्र पंद्रह दिन पहले की है। सलीम मुंबई गया था और वह किसी आपराधिक साजिस का शिकार हो गया और पुलिस उससे पकड़ ली। जब मुंबई से फ़ोन आया तो जमानत करवाने के लिए रुकसाना मेरे पास आई और बोली भाई साहब आप मुझे लेकर मुंबई चलो, मुझे तो ज्यादा पता नहीं है आप रहेंगे तो ठीक रहेगा। मैं मना नहीं कर सकता था। तो मैं जाने के लिए तैयार हो गया। मुझे रुकसाना बहुत अच्छी लगती थी और रुकसाना को भी मेरा व्यबहार बहुत अच्छा लगता था और वो मुझे पसंद भी करती थी। क्यों की मेरा व्यवहार सभी के लिए अच्छा था।

दूसरे दिन जाना था। टिकट थी नहीं वेटिंग में थी। सेकंड ऐसी का टिकट लिए और दूसरे दिन करीब 1 बजे मेसेज आया की आरएसी हुआ है। रुकसाना बोली खुश इस बात की है की चलो बैठने के लिए तो सीट मिल गया है। हम दोनों फटाफट नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंच गए। और ट्रैन में चढ़ गए।  हम दोनों का सीट निचे का था साइड में। बैठने के लिए आपने देखा होगा साइड लोअर बर्थ। हम दोनों आराम से बैठ गए। चाय नास्ता फिर खाना भी हो गया। मैं काफी तक चूका था मुझे नींद आ रही थी पर कर कुछ नहीं सकता था सीट एक थी और हम दो तो सोचा चलो बैठ कर ही काट लेंगे।एक कम्बल ही निकाले और दोनों ओढ़ लिए. मैं अपने छाती तक रखा और रुकसाना भी अपने छाती तक।

फिर बात चीत होने लगी। और वो बोली भाई साहब एक बात कहनी थी। आप ट्रैन में है कोई घर का देखने वाला नहीं है।  और यहाँ पर्दा भी लगा है, कल हम दोनों का बहुत काम भी करना है तो सोना जरुरी है। हम दोनों सो जाते है एक ही बेड पर पर ये बात हम लोग किसी से शेयर नहीं करेंगे। मैंने कहा कोई बात नहीं और फिर ठीक से बेड बिछा दिए और मैं सो गया रुक्सना बाथरूम गई और वह से आकर वो पर्दा लगा दी और सो गई। मैं हैरान हो गया क्यों की मैं सोचा हम दोनों एक दूसरे के अपोजिट साइड में सोयेंगे पर वो मेरे साथ मेरे तरफ ही सो गई. वो भी चिपक गई।  क्यों की ज्यादा जगह नहीं होने की वजह से। और फिर हम दोनों बात चीत करने लगे। पर बर्दास्त के बाहर हो गया था क्यों की उसकी गांड मेरे लंड में सटा हुआ था और अब मेरा लौड़ा बेकाबू हो गया था और खड़ा हो गया था मैं बार बार ठीक करने की कोशिश करने लगा पर नहीं हो रहा था। एक ही कंबल हम दोनों ओढ़े थे। पर्दा लगा था मैं बेकाबू होने लगा। मुझे लगा की ये अच्छी बात नहीं है मैं बोल उठा मैं बैठ ही जाता हु।

वो बोली कोई बात नहीं समझ सकती हु आपको क्या परेशानी है। कोई बात नहीं एक रात की बात है आप चाहे तो शांत कर लजिए और उसने अपना नाडा खोल दी और निचे कर दी और फिर मेरे लंड को सहलाने लगी और फिर मैं खुद अपना लंड बाहर कर दिया और अपने चूत में पीछे से रगड़ने लगी।  ओह क्या बताऊँ दोस्तों मैंने अपना लौड़ा उसमे चूत में डाल दिया और चोदने लगा मोटी गांड में लौड़ा पेलने लगा फिर उसने मेरा हाथ अपने बूब्स पर रख दी फिर दबाने लगा। उसके बाद फिर किस करने लगा, होठ चूसने लगे फिर क्या था वो गरम हो गई और मैं पहले से गरम था वो कहने लगी जोर से जोर से। और मैं भी जोर जोर से चोदने लगा।

ट्रैन अपने रफ़्तार में जा रही थी और मेरा लंड भी चूत में उसी रफ़्तार से पिस्टन की तरह जा रहा था। उसके बाद हम दोनों झड़ गए। वो शांत हो गई मैं भी शांत हो गया।  वो मेरे तरफ घूम कर बोली मजा आ गया। गजब का लगा आपका लंड। और फिर कम्बल के निचे ही सलवार निकाल दी और पेंटी भी , मैं भी अपना पेण्ट उतार दिया। और फिर उसके चूत को सहलाने लगा।  वो मेरा लंड सहलाने लगी। दोनों एक दूसरे को सहला रहे थे।

करीब आधे घंटे बाद फिर से मैं तैयार हो गया मेरा लंड कड़क हो गया। मैं फिर से चूत में देने लगा पर वो बोली चाहे तो एक बार गांड भी चोद लो मैंने उसके गांड पर लंड लगाया और धीरे धीरे घुसा दिया कि रुखसाना का गांड भी गीली थी क्यों की चूत का पानी गांड तक आ गया था।  और जोर जोर  मारने लगा. करीब आधे घंटे तक गांड मारा और फिर अपना सारा वीर्य गांड में ही डाल दिया। वो बोली मजा आ गया। और वो उठाकर वाशरूम चली गई अपना कपड़ा पहन कर। मै वैसे ही लेटा था तभी टीटी आ गया और बोला सर आपका टिकट कन्फर्म कर रहे है आपका सीट बगल में ही है।  तभी वो आ गई बोली कोई बात नहीं सर। आप सीट किसी और को दे दीजिये हम दोनों को यहाँ भी कोई दिक्कत नहीं है। टीटी चला गया और वो फिर से मेरे पास लेट गई और मेरे होठ को चूसने लगी।

दोस्तों ट्रैन में चुदाई का मजा ही कुछ और आता है। और औरत या लड़की आपकी पसंद की ही तो और भी मजा आ जायेगा। मेरे साथ भी वही हुआ। सुबह मुंबई पंहुचा और दिन भर काम किया और फिर हम दोनों शाम को एक होटल में कमरा बुक किये और फिर रात भर क्या हुआ होगा आप खुद ही समझ सकते हैं।

Spread the Hot Story
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *